आपातकाल के दौरान लड़ने वालों के बलिदान को नहीं भूल पायेगा देश- पी एम मोदी

आपातकाल के दौरान लड़ने वालों के बलिदान को नहीं भूल पायेगा देश- पी एम मोदी

नयी दिल्ली। आज के दिन 45 साल पहले 25 जून 1975 को देश में आपातकाल लागू किया गया था। तब के तत्कालीन राष्ट्रपति फखरुद्दीनअली अहमद ने तब की तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी के सिफारिश पर देश में आपातकाल लागू कर दिया था। इंदिरा गांधी के कहने पर भारतीय संविधान की धारा 352 के अधीन आपातकाल की घोषणा कर दी। स्वतंत्र भारत के इतिहास में यह सबसे विवादास्पद और अलोकतांत्रिक काल था।


प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करते हुए उस दिन को याद किया और उस समय को याद किया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा “उस समय भारत के लोकतंत्र की रक्षा के लिए जिन लोगों ने संघर्ष किया, यातनाएं झेली, उन सबको मेरा शत-शत नमन! उनका त्याग और बलिदान देश कभी नहीं भूल पाएगा” ।

क्या हुआ था उस समय

आपातकाल में चुनाव स्थगित हो गए तथा नागरिक अधिकारो को समाप्त कर दिया गया। बड़े बड़े नेताओं को गिरफ़्तार कर जेल भेज दिया गया। जे पी, मोरारजी देसाई, अटलबिहारी वाजपेयी , आडवाणी, अशोक मेहता जैसे नेताओं को जेल में डाल दिया गया था। प्रेस पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। बड़े पैमाने पर पुरुष नसबंदी का अभियान चलाया गया था। जयप्रकाश नारायण ने आपातकाल को ‘ भारतीय इतिहास की सर्वाधिक काली अवधि’ कहा था।

Related News
पायलट गुट के याचिका की सुनवाई सोमवार तक टली, मंगलवार तक नोटिस पर रोक
ब्रेकिंग न्यूज: सचिन पायलट डिप्टी सीएम के पद से हटाये गये, अध्यक्ष पद भी वापस लिया गया
कौशल विकास से बनेगा आत्मनिर्भर भारत, चीन को इस मंत्री ने दिया कड़ा संदेश
भाजपा अध्यक्ष ने कोंग्रेस और चीन के रिश्तों को लेकर उठाये 10 सवाल, सोनिया गांधी से माँगा जवाब
प्रवर्तन निदेशालय का अहमद पटेल के घर छापा, संदेसरा घोटाले में हो रही पूछताछ
आपातकाल के दौरान लड़ने वालों के बलिदान को नहीं भूल पायेगा देश- पी एम मोदी