कौशल विकास से बनेगा आत्मनिर्भर भारत, चीन को इस मंत्री ने दिया कड़ा संदेश

कौशल विकास से बनेगा आत्मनिर्भर भारत, चीन को इस मंत्री ने दिया कड़ा संदेश

नई दिल्ली। केंद्रीय कौशल विकास और उद्यमिता मंत्री डॉ महेंद्र नाथ पांडेय ने आज कहा कि भारत के मौजूदा कार्यबल की स्किलिंग, अप-स्किलिंग और री-स्किलिंग केंद्र सरकार के संकल्प के अनुरूप आत्मनिर्भर भारत एवं हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के कुशल नेतृत्व एवं मार्गदर्शन में शुरु की गई गरीब कल्याण रोज़गार अभियान की सफलता में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। उन्होंने ये बातें एसोचैम द्वारा आयोजित एक वेबिनार में कही। उन्होंने कहा कि हमारी फ्लैगशिप स्किल ट्रेनिंग स्कीम (PMKVY 2016-2020) की वर्तमान समयसीमा अब समाप्त हो रही है, जिसके अंतर्गत अबतक देश के करीब 73 लाख युवाओं को प्रशिक्षित किया जा चुका है।

कोविड-19 के बाद कौशल विकास के कार्यक्रमों पर एसोचैम द्वारा आयोजित किए गए वेबिनार को संबोधित करते हुए डॉ पांडेय ने कहा कि हमें वर्तमान परिदृश्य में मुख्य रूप से रोजगार पर ध्यान देने की आवश्यकता है, इसलिए हम पीएमकेवीवाई के अगले चरण में मांग आधारित कौशल पर ध्यान केंद्रित करेंगे, जहां हमने कुछ अन्य पहलुओं को जोड़ा है - जैसे जिला कौशल समितियों को मजबूत करना एवं स्थानीय रोजगार कार्यालयों के साथ जुड़ना। इसके साथ ही इसमें जिला आयुक्त एवं राज्य कौशल विकास मिशन की भी महत्वपूर्ण भूमिका होगी जोकि उद्योग निकायों से जुड़े होंगे, ताकि हम मांग आपूर्ति की खाई को पाट सकें और अपने गृह राज्यों को लौट चुके प्रवासी श्रमिकों को प्रासंगिक प्रशिक्षण प्रदान कर सकें।उन्होंने कहा कि यदि आवश्यक हुआ तो सरकार सामाजिक और शारीरिक दूरी के दिशानिर्देशों का पालन करने के लिए पीएमकेवीवाई केंद्रों और आईटीआई संस्थानों को 2-3 शिफ्टों में चलाने की अनुमति देगी।मंत्री ने साथ ही चीन को भी कड़ा संदेश दिया। उन्होंने कहा कि “हमारा पड़ोसी देश अपने ऊपर लगे धब्बों को मिटाने की कोशिश के साथ ही विस्तारवादी नीति पर काम कर रहा है, लेकिन उन्हें अब समझ आ गया है कि इस बार उनका सामना अपेक्षाकृत एक बहुत मजबूत प्रतिद्वंदी से पड़ा है और हमारा देश पूरा एकजुट खड़ा है।

वेबिनार के स्वागत संबोधन में, ASSOCHAM के अध्यक्ष, डॉ। निरंजन हीरानंदानी ने कहा, "सभी उद्योग, स्वेच्छा से इस लड़ाई को संयुक्त रूप से लड़ने के लिए सरकार के साथ मिलकर काम करेंगे और माननीय प्रधानमंत्री जी को नए आत्मनिर्भर भारत के विज़न को पूरा करने में सहयोग देंगे।"एसोचैम, नेशनल काउंसिल ऑन स्किल डेवलपमेंट के को-चेयरमैन, मनिंदर नैय्यर ने कहा, “कोविड -19 के बाद, नए क्षेत्र उभरने के लिए तैयार हैं, इनमें कौशल के नए स्तरों की आवश्यकता है, जैसे कि सरकार और उद्योग के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वे भविष्य की संभावनाओं की भविष्यवाणी करें और उनके लिए आज ही तैयारी करें। ”

वेबिनार को संबोधित करने वाले अन्य लोगों में  दिव्या जैन, को-चेयरमैन एसोचैम, नेशनल काउंसिल ऑन स्किल डेवलपमेंट डॉ डारली कोशी, डाइरेक्टर जनरल, अपैरल ट्रेनिंग एंड डिजाइन सेंटर एन के महापत्रा, सीईओ, इलेक्ट्रॉनिक सेक्टर स्किल काउंसिल और  पवन अग्रवाल, एमडी एंड सीईओ, स्मार्टस्किल्स बिट्स एंड बाइट्स प्रा लि शामिल रहे।

Related News
पायलट गुट के याचिका की सुनवाई सोमवार तक टली, मंगलवार तक नोटिस पर रोक
ब्रेकिंग न्यूज: सचिन पायलट डिप्टी सीएम के पद से हटाये गये, अध्यक्ष पद भी वापस लिया गया
कौशल विकास से बनेगा आत्मनिर्भर भारत, चीन को इस मंत्री ने दिया कड़ा संदेश
भाजपा अध्यक्ष ने कोंग्रेस और चीन के रिश्तों को लेकर उठाये 10 सवाल, सोनिया गांधी से माँगा जवाब
प्रवर्तन निदेशालय का अहमद पटेल के घर छापा, संदेसरा घोटाले में हो रही पूछताछ
आपातकाल के दौरान लड़ने वालों के बलिदान को नहीं भूल पायेगा देश- पी एम मोदी