कीनाराम आश्रम में पूजी गयी कुमारी कन्याएँ और भैरव के बाल स्वरूप के पखारे गए पाँव

कीनाराम आश्रम में पूजी गयी कुमारी कन्याएँ और भैरव के बाल स्वरूप के पखारे गए पाँव

वाराणसी। बाबा कीनाराम आश्रम क्रीं कुण्ड शिवाला में शारदीय नवरात्र कन्या पूजन के साथ आज सम्पन्न हुआ। वैसे तो शारदीय नवरात्र में कन्या पूजन का विशेष महत्व होता है परन्तु इस बार कोविड-19 के काल मे कोरोनॉ नियमों का अनुपालन करते हुए कन्याओं का पूजन अपने आप में चुनौतीपूर्ण रहा। इस बार रविवार को विश्वविख्यात अघोरपीठ अघोराचार्य बाबा कीनाराम अघोर शोध एवं सेवा संस्थान के पीठाधीश्वर, सर्वेश्वरी समूह एवं अघोर सेवा मंडल के अध्यक्ष परम् पूज्य बाबा सिद्धार्थ गौतम राम जी के निर्देशन एवं आशीर्वाद से कीनाराम आश्रम में नव कुमारी कन्याओं एवं भैरव का पूजन स्पर्श रहित एवं सामाजिक दूरी का पालन करते हुए पूरे उत्साह से आयोजित किया गया।



इस दौरान कीनाराम स्थल प्राँगण में सीमित संख्या में सम्मिलित भक्तों ने दो गज की दूरी रखते हुए कतारबद्ध तरीके से नव कुमारी एवं भैरव के बाल स्वरूप का दर्शन पूजन कर आशीर्वाद लिया। कीनाराम स्थल इस दौरान देवी भक्ति के साथ-साथ हर-हर महादेव के जयघोष से गुंजायमान रहा। 

इसके पूर्व नन्हीं-नन्हीं कुमारी कन्याओं का पाँव पखारे व शुभता के लिए महावर से रंगे गए,नए वस्त्र बिंदी कुमकुम आदि से श्रृंगार के उपरांत सजीली चमकदार चुनरियाँ ओढाई गयीं, विधिवत पूजन कर सात्विक भोजन ( पूड़ी सब्जी खीर पकवानों समेत दही, मिष्ठान और ऋतु फल) से तृप्त किया गया। कन्याओं को नौ देवी स्वरूप एवं भैरव का पूजन आचार्य प्रकाश जी एवं श्रीमती संगीता सिंह ने किया । कार्यक्रम के सफलतापूर्वक आयोजन के लिए संस्थान के व्यवस्थापक श्री अरुण सिंह तथा सदस्यों में गुंजन, नाना जी, वीरेंद्र, कांता, नवीन,गोलू, अंशू, डब्बू, जसवंत, गोवर्धन,मिंटू, फागू एवं अभिषेक ने सराहनीय योगदान दिया ।


Related News
रमन रेती के पावन स्थली में मोरारी बापू की रामकथा
कीनाराम आश्रम में पूजी गयी कुमारी कन्याएँ और भैरव के बाल स्वरूप के पखारे गए पाँव
वाराणसी: भक्तों ने घर पर रहकर मनाया गुरु पूर्णिमा का पर्व
अपने घर पर ही रहकर मनायें गुरू पूर्णिमा का पर्व- अघोराचार्य बाबा सिद्धार्थ गौतम राम
शनिदेव को करना चाहते हैं प्रसन्न तो करें ये उपाय
इस वजह से होते हैं घर में ज्यादा झगड़े