कुलपति प्रो. भटनागर ने श्रीमद भागवत कथा का किया श्रवण

कुलपति प्रो. भटनागर ने श्रीमद भागवत कथा का किया श्रवण

वाराणसी। काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के संस्थापक भारत रत्न महामना पं. मदन मोहन मालवीय जी के जयंती महोत्सव के उपलक्ष्य में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के दूसरे दिन कुलपति प्रो. राकेश भटनागर ने कथा का श्रवण किया। कुलपति प्रो. राकेश भटनागर ने व्यास पीठ पर महामना को माल्यार्पण किया। श्रीमद भागवत कथा का वाचन व्यास पीठ पर विद्यमान, संस्कृत विद्या धर्म विज्ञान संकाय के प्रमुख प्रो. विंदेश्वरी प्रसाद मिश्र कर रहे हैं। इस अवसर पर कुलसचिव डॉ. नीरज त्रिपाठी, वित्ताधिकारी अभय ठाकुर, मुख्य आरक्षाधिकारी प्रो. आनंद चौधरी, मालवीय भवन के मानित निदेशक प्रो. उपेन्द्र पाण्डेय ने भी महामना की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया व कथा श्रवण किया। कथा वाचन करते हुए प्रो. मिश्र ने कहा कि भारतीय ज्ञान परंपरा में श्रवण की बड़ी महिमा है और इसीलिए कथा श्रवण का अत्यंत महत्व है। उन्होंने कहा कि हमारी परंपरा में बहुपठित के बजाए बहुश्रुत को विद्वान माना जाता है। प्रो. मिश्र ने कहा कि भक्ति के मार्ग पर भी एवं ज्ञान के मार्ग पर भी श्रवण की अपनी महिमा है। उन्होंने कहा कि कानों से हम सिर्फ सुनने की क्रिया ही नहीं करते बल्कि साधना भी करते हैं और वो संभव होता है श्रवण करने, जो सुना है उस पर विचार करने एवं उसे अपने जीवन में उतारने से। इससे पहले स्वागत संबोधन देते हुए मालवीय भवन के मानित निदेशक प्रो. उपेन्द्र पाण्डेय ने कहा कि कोरोना महामारी के दौर में जहां किसी भी कार्यक्रम को करना एक चुनौती है, वहीं, सभी मानकों का पालन करते हुए मालवीय जयंती महोत्सव का सुचारू आयोजन महामना से मिली प्रेरणा से ही संभव हो पाया है और विश्वविद्यालय की परंपरा भी बनी हुई है। श्रीमद भागवत कथा श्रवण के लिए शिक्षकों, छात्रों व कर्मचारियों समेत विश्वविद्यालय परिवार के अनेक सदस्य उपस्थित थे।


Related News
पंच कवि चौरासी घाट के बैनर तले बजड़े पर कवि सम्मेलन व पुस्तक विमोचन सम्पन्न
द्वितीय ओपन महिला कराटे प्रतियोगिता व नशामुक्त काशी कार्यक्रम शुरू हुआ
चिकित्सा व समाजसेवा के क्षेत्र में किये उत्कृष्ट कार्य के लिए सम्मानित डॉ संध्या यादव
कुलपति प्रो. भटनागर ने श्रीमद भागवत कथा का किया श्रवण
इंटरनेट उपयोगकर्ता रहें सतर्क : प्रो. टी एन सिंह
पुस्कर कुंड में CRPF ने चलाया स्वच्छता अभियान, गरीबों को बांटा कंबल