वाराणसी : इस इलाके में जाम लगना आम बात, घंटो फंसे रहते हैं यात्री और बाराती

वाराणसी : इस इलाके में जाम लगना आम बात, घंटो फंसे रहते हैं यात्री और बाराती

वाराणसी

वाराणसी- इलाहाबाद राष्ट्रीय राजमार्ग पर आए दिन जाम लगने से लोगों को काफी परेशानी हो रही है। पिछले महीने राजातालाब, मोहन सराय व भदवर बाईपास तक आए दिन जाम लगता था। अब राजातालाब से मिर्जामुराद तक लग रहे जाम ने लोगों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं‌। 

इस राष्ट्रीय राजमार्ग 2 को 4 लेन की जगह 6 लेन का किया जा रहा है। साथ ही पखवारे भर से राजातालाब में ओवर ब्रिज बनाए जाने के लिए खुदाई व निर्माण कार्य प्रारंभ हो गया है। जिसके चलते 6 किलोमीटर की लंबी जाम आए दिन लग रही है। शाम को निकलने वाली बारातियों के वाहन भी जाम में फंस जा रहे है। साथ ही राष्ट्रीय राजमार्ग पर यात्रा करने वाले यात्रियों, इलाहाबाद से बनारस की तरफ आने वाले और बनारस से इलाहाबाद, भदोही, मिर्जापुर, विंध्याचल जाने आने वाले लोगों को भी समस्या हो रही है।

राजातालाब से मिर्जामुराद की दूरी मात्र 6 किलोमीटर है, जाम के कारण इस राजमार्ग पर यह दूरी तय करने में घंटों लग जा रहे हैं। राजातालाब लगायत मिर्जामुराद बाजार के लोगों ने जाम से निजात दिए जाने की मांग की है। लोगों ने राष्ट्रीय राजमार्ग पर ट्रैफिक पुलिस और होमगार्ड के जवान लगाकर, राजमार्ग के सर्विस लेन बनाकर यातायात व्यवस्था दुरुस्त किए जाने की मांग की है। 

सामाजिक कार्यकर्ता राजकुमार गुप्ता ने बताया कि सिक्स लेन और फ्लाईओवर निर्माण के कारण यहां के सैकड़ों पटरी व्यवसायियों को उजाड़ा गया है जबकि कानूनन इनको बिना बसाये पुनर्वासित किये बिना उजाड़ा जाना आजीविका संरक्षण, राष्ट्रीय फेरीनीति कानून का उल्लंघन है जाम लगने के कारण यहां के व्यवसायियों का कारोबार चौपट हो गया है। इसके अलावा सिक्स लेन बनाए जाने हेतु यहां के भवन स्वामियों को मुआवजा दिए बिना उनके भवनों को नही ध्वस्त किये जाने की भी मांग रखी हैं।


Related News
वाराणसी : दर्दनाक हादसे में बीस वर्षीय युवक की मौत
वाराणसी : महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के गांधी में इस मुद्दे पर आयोजित हुई संगोष्ठी
वाराणसी : इस वजह से मुस्लिमों ने बीजेपी से जोड़ा नाता
वाराणसी : कैंट और चौबेपुर पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, शातिर अपराधियों को किया गिरफ्तार
वाराणसी : नाबालिग बच्चों से साफ कराया गया थाने में जमा कीचड़, फोटो वायरल
वाराणसी : आईआईटी बीएचयू में जल्द ही शुरू किया जाएगा यह प्रोग्राम