सुप्रीम कोर्ट ने योगी सरकार को लगाई फटकार, पत्रकार प्रशांत को फौरन रिहा करे

सुप्रीम कोर्ट ने योगी सरकार को लगाई फटकार, पत्रकार प्रशांत को फौरन रिहा करे

नई दिल्ली 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर सोशल मीडिया पर पोस्ट लिखने वाले पत्रकार प्रशांत कनौजिया की गिरफ्तारी को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने कड़ी टिप्पणी की है. साथ ही अदालत की तरफ से प्रशांत कनौजिया को तुरंत रिहा करने का आदेश दिया है। आज ई सुनवाई में अदालत ने कहा है कि एक नागरिक के अधिकारों का हनन नहीं किया जा सकता है, उसे बचाए रखना जरूरी है। 

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि प्रशांत कनौजिया ने जो शेयर किया और लिखा, इस पर यह कहा जा सकता है कि उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए था। लेकिन, उसे अरेस्ट किस आधार पर किया गया था?' सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि आखिर एक ट्वीट के लिए उनको गिरफ्तार किए जाने की क्या जरूरत थी। 

गौरतलब है कि प्रशांत कनौजिया पर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ के खिलाफ एक टिप्पणी करने का आरोप है। पुलिस के मुताबिक उन्होंने एक विडियो को शेयर करते हुए एक विवादित कैप्शन लिखा था। जिसके लिए उन्हें शुक्रवार को उनके घर से गिरफ्तार किया गया है। 

Related News
अयोध्या के भगवान रामलला नाबालिग हैं, नहीं छीन सकते उनकी संपत्ति: वकील
योगी मंत्रिमंडल विस्तार : इन दो नए चेहरों को मिली जगह
योगी मंत्रिमंडल का पहला विस्‍तार आज, गांधी ऑडिटोरियम में शपथ दिलाई जाएगी
समाजवादी पार्टी को लगा तगड़ा झटका, भाजपा शामिल हुए ये दिग्गज
उत्तर प्रदेश : अखिलेश यादव ने भाजपा पर साधा निशाना, लगाए कई आरोप
उत्तर प्रदेश : आजम खान को एक और मुसीबत, 'हमसफर' पर चला जिला प्रशासन का बुलडोजर