अमित शाह का बड़ा बयान, कहा जम्मू कश्मीर में 6 महीने के लिए राष्ट्रपति शासन बढ़ाया जाए

अमित शाह का बड़ा बयान, कहा जम्मू कश्मीर में 6 महीने के लिए राष्ट्रपति शासन बढ़ाया जाए

नई दिल्ली 

शुक्रवार को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने लोकसभा में जम्मू कश्मीर आरक्षण विधेयक सदन में पेश कर दिया है। अमित शाह सदन में लोकसभा में जम्मू कश्मीर में राष्ट्रपति शासन 6 महीने के लिए बढ़ाने से जुड़ा प्रस्ताव सदन में रखा। इस दौरान गृहमंत्री ने आरक्षण बिल, आतंकवाद, कश्मीर में चुनाव, घाटी में शांति बहाल जैसे अहम मुद्दों पर बात रखी। 

सदन में अपनी बात रखते हुए अमित शह ने कहा कि जब कोई दल राज्य में सरकार बनाने के लिए तैयार नहीं था तो कश्मीर में राज्यपाल शासन लगाया गया था। इसके बाद विधानसभा को भंग करने का फैसला राज्यपाल ने लिया था। आगे बोलते हुए अमित शाह ने कहा कि नौ दिसंबर 2018 को राज्यपाल शासन की अवधि खत्म हो गई थी और फिर धारा 356 का उपयोग करते हुए 20 दिसंबर से वहां राष्ट्रपति शासन लगाने का फैसला लिया गया। 2 जुलाई को छह माह का अंतराल खत्म हो रहा है और इसलिए इस राष्ट्रपति शासन को बढ़ाया जाए क्योंकि वहां विधानसभा अस्तित्व में नहीं है। 

Related News
पूर्व पीएम चंद्रशेखर के बेटे नीरज शेखर सपा से नाता तोड़ बीजेपी में हुए शामिल
जो बीजेपी के फैसले का समर्थन नहीं करता है, उन्हें वे देशद्रोही कहते हैं : असदुद्दीन ओवैसी
अमित शाह के जवाब पर ओवैसी का पलटवार, बोले- वे सिर्फ गृह मंत्री हैं...कोई भगवान नहीं
कलराज मिश्र बनाए गए हिमाचल के राज्यपाल, इन्हें दी गई गुजरात की जिम्मेदारी
लोकसभा में ओवैसी को ये क्या बोल दिए अमित शाह
उमर अब्दुल्ला ने हेमा मालिनी पर कसा तंज़, कहा- अगली बार पहले अकेले में प्रैक्टिस कर लीजिएगा