डीएलडबल्यू में जारी है विरोध, लोगों ने काले झंडे के साथ निकाला जुलूस

डीएलडबल्यू में जारी है विरोध, लोगों ने काले झंडे के साथ निकाला जुलूस

डीरेका के निगमीकरण के विरोध में लगातार चल रहे प्रदर्शन के क्रम में गुरुवार को डीरेका बचाओ संयुक्त संघर्ष समिति के बैनर तले कर्मचारियों ने पश्चिमी गेट से विशाल विरोध जुलूस निकाला। इसमें जुलूस डीएलडब्ल्यू मजदूर संघ, रेल मजदूर यूनियन, मेंस काग्रेस आफ डीएलडब्ल्यू, डीएलडब्ल्यू मेंस यूनियन के साथ ही एससी-एसटी एसोसिएशन, ओबीसी एसोसिएशन, आईआरटीएसए व कर्मचारी परिषद शामिल थे।  

हजारों की संख्या में कर्मचारी विशाल जुलूस की शक्ल में हाथों में काले झंडे व बाहों पर काली पट्टी बांध कर नारेबाजी करते हुए निकले। मोदी नेतृत्व की बीजेपी सरकार की निगमीकरण नीति के बाद कुछ ऐसे बदलाव हो जाएँगे। 

डीरेका की वर्तमान व्यवस्था

-सभी कर्मचारी भारतीय रेलवे के हैं

-रेल सेवा अधिनियम लागू होता है

-सभी को केंद्रीय कर्मचारी माना जाता है

-उत्पादन इकाइयों का सर्वेसर्वा जीएम होता है

-रेलवे बोर्ड के चेयरमैन को जीएम रिपोर्ट करते हैं


निगम बनने के बाद ये होगी व्यवस्था

-जीएम की जगह सीईओ की तैनाती

-सीईओ, सीएमडी को रिपोर्ट करेगा

-ग्रुप सी और डी का कोई कर्मचारी भारतीय रेलवे का हिस्सा नहीं होगा

-ग्रुप सी और डी के कर्मचारी निगम के कर्मचारी होंगे

-इन पर रेल सेवा अधिनियम लागू नहीं होगा

-कारपोरेशन के नियम के तहत काम करना होगा

-कर्मचारियों के लिए अलग से पे-कमीशन आएगा

-संविदा पर काम करेंगे

-केंद्र सरकार की सुविधाएं नहीं मिलेंगी

-सेवा शर्तें भी बदल जाएंगी

-नए कर्मचारियों के लिए पे-स्केल और पे-स्ट्रक्चर भी बदल जाएगा

Related News
वाराणसी : पाकिस्तान को पटखनी देने वाले इस भारतीय खिलाड़ी को अजय राय ने किया सम्मानित
मिर्जापुर : एसपी ने थाना प्रभारी और चौकी इंचार्ज किया लाइन हाजिर
वाराणसी में पीएम मोदी ने इस कपड़े को खरीदने की गुजारिश की
उत्तर प्रदेश : मायावती को लगा तगड़ा झटका, पांच विधानसभा क्षेत्र के अध्यक्षों ने दिया इस्तीफा
इस वजह से भाजपा विधायक समेत आठ पर केस दर्ज करने का हुआ आदेश
धनतेरस पर स्वर्णमयी मां अन्नपूर्णा के दर्शन के लिए श्रद्धलुओं की लंबी कतार