कौन हैं राजीव गांधी के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले आरिफ मोहम्मद खान

कौन हैं राजीव गांधी के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले आरिफ मोहम्मद खान

नई दिल्ली 

राष्‍ट्रपति की ओर से रविवार को पांच राज्‍यपालों की नियुक्ति और तबादले किए गए हैं। इनमें आरिफ मोहम्‍मद खान को केरल का नया राज्‍यपाल नियुक्‍त किया गया है। केरल का राज्‍यपाल नियुक्‍त किए जाने पर आरिफ मोहम्‍मद खान ने कहा कि ये देशसेवा का अच्‍छा मौका है। मुझे भारत जैसे देश में जन्‍म लेने पर गर्व है। 

उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में 1951 में जन्मे आरिफ मोहम्मद खान का परिवार बाराबस्ती से ताल्लुक रखता है। बुलंदशहर ज़िले में 12 गांवों को मिलाकर बने इस इलाके में शुरुआती जीवन बिताने के बाद खान ने दिल्ली के जामिया मिलिया स्कूल से पढ़ाई की। उसके बाद अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय और लखनऊ के शिया कॉलेज से उच्च शिक्षा हासिल की। 

छात्र जीवन से ही राजनीति से जुड़ने वाले खान ने कॉंग्रेस ज्वाइन कर लिया। कई राजनीति उतार चढ़ाव के बाद राजीव गांधी सरकार में आरिफ मोहम्मद खान गृह राज्य मंत्री रहे। राजीव गांधी सरकार में ही आरिफ मोहम्मद खान ने शाह बानो के पक्ष में आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले की ज़बरदस्त पैरवी की थी और 23 अगस्त 1985 को लोकसभा में दिया गया खान का भाषण मशहूर और यादगार हो गया था। 

आखिरकार, इस केस में हुआ ये कि मुस्लिम समाज के दबाव में आकर राजीव गांधी ने मुस्लिम पर्सनल लॉ संबंधी एक कानून संसद में पास करवा दिया, जिसने शाह बानो के पक्ष में आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले को भी पलट दिया। और तब, खान ने राजीव गांधी के इस स्टैंड के खिलाफ मुखर होते हुए न केवल मंत्री पद से इस्तीफा दिया बल्कि कांग्रेस से भी दामन छुड़ा लिया। 

मालूम हो कि 1978 में पेशे से वकील अहमद खान ने अपनी पहली पत्नी शाह बानो को तीन बार तलाक कहकर तलाक दे दिया था। शाह बानो समान नागरिक संहिता की दलील लेकर गुज़ारा भत्ता मांगने के लिए अपने पति के खिलाफ अदालत पहुंच गई थीं। 


Related News
14 दिन की न्‍यायिक हिरासत में तिहाड़ भेजे गए पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम
कश्मीर की इस बेटी को सुप्रीम कोर्ट ने दी माँ से मिलने की इजाजत
एक और कांग्रेस नेता पर ईडी का शिकंजा, डीके शिवकुमार गिरफ्तार
बीजेपी, बजरंग दल लेते हैं आईएसआई से फंड : दिग्विजय सिंह
कौन हैं राजीव गांधी के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले आरिफ मोहम्मद खान
राजीव गांधी के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले आरिफ मोहम्मद खान को बीजेपी ने बनाया केरल का राज्यपाल