घर पर ही मनायें गुरू पूर्णिमा का पर्व - बाबा सिद्धार्थ गौतम राम जी

घर पर ही मनायें गुरू पूर्णिमा का पर्व - बाबा सिद्धार्थ गौतम राम जी

वाराणसी। कोरोनॉ को तीसरी लहर और कोविड-19 वायरस के म्युटेंट्स के खतरे को देखते हुए अघोर पीठ के पीठाधीश्वर बाबा सिद्धार्थ गौतम राम ने भक्तों से अपील की है कि इस बार भी भक्तजन गुरुपूर्णिमा का पर्व घर रहकर ही मनाएं ।  अपने भक्तों को संक्रमण से दूर रखने के लिए विश्व विख्यात अघोरपीठ औघोराचार्य बाबा कीनाराम अघोर शोध एवं सेवा संस्थान क्रीकुण्ड शिवाला के पीठाधीश्वर अघोराचार्य बाबा सिद्धार्थ गौतम राम जी ने कहा कि आप सभी से विनम्र निवेदन है कि कोरोना वायरस के नित नए रूप धारित  करने के कारण सम्पूर्ण मानव जाति के अस्तित्व पर संकट उत्पन्न हो गया है। इस संकट के घड़ी में सभी श्रद्धालुओं तथा अनुयायियों पर मानवता की सेवा एवं रक्षा का दायित्व सबसे अधिक है। अतः आप सभी भक्तजनो से नम्र निवेदन हैं कि कोरोनॉ सुलभ व्यवहार अपनाएं एवं   कोरोनॉ गाइड लाइन का कड़ाई से पालन करे तथा अन्य लोगो को भी पालन करने हेतु प्रेरित करे।               

बाबा गौतम राम जी ने आश्रम आने वाले अनुयायियों को  घरों में ही रहकर गुरु पूर्णिमा का पर्व मनाने तथा आश्रम ना आने का स्पष्ट आदेश दिया है।                             

इस वर्ष गुरु पूर्णिमा 24 जुलाई 2021 दिन शनिवार को पड़ रहा है। ऐसी विषम परिस्थितियों में गुरू पूर्णिमा के पावन पर्व पर आप सभी श्रद्धालु ,भक्तजन एवं सदस्य गण अपने- अपने स्थान पर ही स्वजनों के साथ श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए गुरु पूजन का अनुष्ठान करे।                                        आश्रम परिवार और भक्तो के लिए यह दूसरी बार है कि इस गुरु पूर्णिमा के पावन पर्व पर अपने गुरु की चरण वंदना और गुरु दर्शन की मनोकामना प्रत्यक्ष माध्यमों से न होकर अप्रत्यक्ष माध्यमों से ही पूरी होगी।


Related News
बाबा कीनाराम आश्रम में पूजी गयी कुमारी कन्याएँ और भैरव के बाल स्वरूप के पखारे गए पाँव
अघोर पीठ बाबा कीनाराम स्थल में श्री सर्वेश्वरी समूह का 61वाँ स्थापना दिवस मनाया गया
अघोर परम्परा का विख्यात पर्व - 'लोलार्क षष्ठी'- इस वर्ष भी सांकेतिक रुप में ही मनाया जाएगा
किनानाराम भक्तों ने घर पर ही रह कर मनाया गुरु पूर्णिमा का पर्व
घर पर ही मनायें गुरू पूर्णिमा का पर्व - बाबा सिद्धार्थ गौतम राम जी
श्री नाथद्वारा में १० जुलाई से मोरारीबापू द्वारा मंगलकारी संवादी रामकथा का शुभारंभ